बिहार में कल बन सकती है भाजपा- नीतीश सरकार

फिर एक बार नीतीश कुमार ने पाला बदलने की अटकलों को हवा दे दी। अगर सब कुछ सही रहा तो शायद रविवार को ही नई सरकार का गठन हो सकता है। लेकिन पाला बदल के इस खेल में अटकले तेज़ है की नीतीश कुमार ही गद्दी पर बने रहेंगे और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी होंगे

author-image
राजा चौधरी
एडिट
New Update
Sushil Modi and Nitish Kumar

खबरों के मुताबिक नीतीश कुमार मुख्य मंत्री और सुशील मोदी उपमुख्य मंत्री बन सकते है।

पटना: फिर से एक बार पटना में पला बदल का खेल शुरू हो गया। जल्द ही बिहार वासियो को नई सरकार देखने को मिल सकती है।

हालाकि दोनो तरफ यानी नीतीश कुमार और राष्ट्रीय लोक दल की शीर्ष टीम यानी लालू प्रसाद यादव से लेकर तेजस्वी यादव तक सब ने अपनी पूरी ताकत लगा दी है लेकिन विजय नीतीश कुमार और भाजपा की ही दिख रही है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भाजपा के साथ हाथ मिलाने की अटकलों के बीच शनिवार को भी बिहार की राजनीति में जोरदार ड्रामा देखने को मिला, जिससे लालू प्रसाद यादव की राष्ट्रीय जनता दल के साथ सत्तारूढ़ गठबंधन खत्म हो गया। 

अगर सब कुछ सही रहा और सभी समीकरण सही बैठ गए तो बीजेपी के समर्थन से जेडीयू रविवार को राज्य में नई सरकार बना सकती है, जिसमें एक बार फिर नीतीश कुमार मुख्यमंत्री होंगे और बीजेपी के सुशील कुमार मोदी उपमुख्यमंत्री बन सकते हैं. बिहार संकट का राष्ट्रीय राजनीति पर व्यापक प्रभाव पड़ने की आशंका है, क्योंकि यह भाजपा और विपक्ष के बीच शक्ति संतुलन को प्रभावित कर सकता है।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और सांसद मनोज कुमार झा ने शनिवार को कहा कि पार्टी के सभी विधायकों ने बिहार में चल रहे राजनीतिक संकट के संबंध में निर्णय लेने के लिए लालू प्रसाद को अधिकृत किया है। राजद सांसद मनोज कुमार झा कहते हैं, ''सकारात्मक बैठक हुई। कई चीजों पर चर्चा हुई। बैठक में तमाम मुद्दे चाहे राष्ट्रीय स्तर के हों या राज्य स्तर के, हर मुद्दे पर चर्चा हुई। यह एक विधायी बैठक थी। लालू यादव, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और सभी विधायक मौजूद रहे।

 मनोज कुमार झा ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, हम सभी ने लालू यादव को निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया है।

इस पला बदल के खेल में कांग्रेस भी कूद पड़ी है। राहुल गांधी से लेकर कांग्रेस के बड़े बड़े नेता भी इस बार खासी दिलचस्पी ले रहे है। कांग्रेस नेता जयराम  रमेश ने इसी बीच कहा कि राजनीतिक संकट के बीच कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे ने नीतीश कुमार से बात करने की कोशिश की, लेकिन वह व्यस्त थे।

रमेश ने कहा, " मैं औपचारिक रूप से कह सकता हूं कि कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से एक बार नहीं, बल्कि कई बार बात करने की कोशिश की। हालांकि, बिहार के मुख्यमंत्री व्यस्त हैं...।"

लेकिन कांग्रेस का रोल बहुत थोड़ा ही होगा। क्योंकि वो खेल बिगाड़ तो सकते है लेकिन उनके हाथ में कुछ आने वाला नहीं है। सांगठनिक तौर से न उनकी बिहार में पकड़ है और न कांग्रेस का बिहार में इतना वजूद बचा है की वो गेम चेंजर की भूमिका अदा कर सके।

आगे आने वाले कुछ दिन राजनैतिक जानकर और बिहार राजनीति के लिए बहुत दिलचस्प होने वाले है।

Advertisment