अयोध्या मंदिर जाने पर इमाम पर फतवा

इमाम इलियासी को अयोध्या राम मंदिर उद्घाटन में सम्मिलित होने की वजह से फतवा जारी किया गया। इलियासी को धमकियां भी लगातार दी जा रही है। लेकिन इलियासी का कहना है की मैंने कुछ गलत नहीं किया और न मैं माफी मांगूंगा

New Update
Ayodhya mufti

डॉक्टर इमाम उमेर अहमद इलियासी को रविवार को मंदिर उद्घाटन में जाने पर फतवा जारी किया गया।

नई दिल्ली: 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर में राम लला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के बाद अखिल भारतीय इमाम संगठन के प्रमुख डॉ इमाम उमेर अहमद इलियासी के खिलाफ कथित तौर पर फतवा जारी किया गया है।

 इमाम इलियासी ने कहा कि फतवा रविवार को जारी किया गया था लेकिन राम मंदिर कार्यक्रम के बाद से उन्हें धमकी भरे फोन आ रहे हैं।

"फतवा कल [रविवार] जारी किया गया था, लेकिन मुझे 22 जनवरी की शाम से धमकी भरे फोन आ रहे थे... मैंने कुछ कॉल रिकॉर्ड किए हैं, जिनमें फोन करने वालों ने मुझे जान से मारने की धमकियां दीं... जो लोग मुझसे प्यार करते हैं, वे देश से प्यार करते हैं - मेरा समर्थन करेंगे। जो लोग समारोह में शामिल होने से मुझसे नफरत करते हैं उन्हें शायद पाकिस्तान चले जाना चाहिए। मैंने प्यार का संदेश दिया है, मैंने कोई अपराध नहीं किया... मैं माफी नहीं मांगूंगा या इस्तीफा नहीं दूंगा, वे जो चाहें कर सकते हैं।" इमाम ने कहा.

 इमाम इलियासी ने कहा कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह में जाने का निर्णय "मेरे जीवन का सबसे बड़ा निर्णय था"। उन्होंने कहा, "मैंने इसके बारे में दो दिनों तक सोचा। आपसी सौहार्द के लिए मैंने अयोध्या जाने का फैसला लिया। सभी संतों और मंदिर ट्रस्ट ने (अयोध्या में) दिल से मेरा स्वागत किया। मेरा मकसद प्रेम का संदेश फैलाना था।"

 "लेकिन लौटने के बाद मेरे साथ दुर्व्यवहार किया जा रहा है और अब मेरे खिलाफ 'फतवा' जारी किया गया है। 'फतवा' में दावा किया गया है कि एक प्रमुख इमाम होने के नाते, मुझे कार्यक्रम में शामिल नहीं होना चाहिए था। मैं बताना चाहूंगा कि यह मेरे बीच का मामला है और मेरे प्रभु, मैं अपने कृत्य के लिए माफी नहीं मांगूंगा,'' इमाम ने कहा।

Advertisment