आंसू गैस-गतिरोध के बीच फंसी दिल्ली

author-image
राजा चौधरी
एडिट
New Update
Tear gas

नई दिल्ली:  दिल्ली में अराजकता चरम पर है। किसान आंदोलन की वजह से न ही रास्ते न ही लोग सुरक्षित महसूस कर रहे है।

मंगलवार को 'दिल्ली चलो' विरोध मार्च शुरू करने के बाद जब प्रदर्शनकारी किसान पंजाब-हरियाणा सीमा पर शंभू के पास पहुंचे तो पुलिस ने उन पर आंसू गैस के गोले दागे। 

जैसे ही हजारों किसानों ने अपनी मांगों पर दबाव बनाने के लिए 'दिल्ली चलो' मार्च शुरू किया, राष्ट्रीय राजधानी एक किले में बदल गई है, और प्रदर्शनकारी किसानों को शहर में प्रवेश करने से रोकने के लिए सीमा पार से कड़े सुरक्षा उपाय किए गए हैं।

 दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (एससीबीए) के अध्यक्ष आदिश अग्रवाल ने भारत के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ को पत्र लिखकर 'दिल्ली चलो' विरोध मार्च करने वाले किसानों के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करने का अनुरोध किया है।

सोमवार देर रात किसान नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों के बीच एक महत्वपूर्ण बैठक बिना किसी समाधान के समाप्त होने के बाद 200 से अधिक किसान यूनियनों ने मार्च को आगे बढ़ाने का फैसला किया।

Advertisment