"3-4 दशकों में ऐसा सूखा नहीं देखा": बेंगलुरु जल संकट पर डीके शिवकुमार

New Update
Water tank

बेंगलुरु: बेंगलुरु में पानी की भारी कमी के बीच, कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डी के शिवकुमार ने सोमवार को कहा कि राज्य ने पिछले तीन-चार दशकों में इतना गंभीर सूखा नहीं देखा है, और अगले दो महीने "बहुत महत्वपूर्ण" हैं।

उन्होंने कहा कि प्रशासन संकट से निपटने और नागरिकों को पानी की आपूर्ति करने के लिए सभी प्रयास कर रहा है और शहर में जल "माफिया" को नियंत्रित करने के लिए कदम उठाए गए हैं।

शिवकुमार ने यहां संवाददाताओं से कहा, "पिछले 30-40 वर्षों में हमने ऐसा सूखा नहीं देखा था; हालांकि पहले भी सूखा पड़ा था लेकिन हमने कभी भी इतनी बड़ी संख्या में तालुकों को सूखा प्रभावित घोषित नहीं किया था।"

बेंगलुरु विकास के प्रभारी शिवकुमार ने कहा कि शहर में जहां भी कावेरी नदी के पानी की आपूर्ति की जानी है, वह की जा रही है, लेकिन बेंगलुरु में 13,900 बोरवेलों में से लगभग 6,900 खराब हो गए हैं।

उन्होंने कहा, "इसलिए स्थिति को नियंत्रित करने के लिए, हमने पानी की आपूर्ति के लिए टैंकरों की व्यवस्था की है। बृहत बेंगलुरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) और बेंगलुरु जल आपूर्ति और सीवरेज बोर्ड (बीडब्ल्यूएसएसबी) इस संबंध में सभी प्रयास कर रहे हैं।"

कर्नाटक ने 240 तालुकों में से 223 में सूखा घोषित किया है, जिनमें से 196 को गंभीर रूप से सूखा प्रभावित के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

यह आरोप लगाते हुए कि विपक्ष (भाजपा-जद(एस) गठबंधन) इस मुद्दे पर राजनीति करने की कोशिश कर रहा है, शिवकुमार ने कहा कि प्रशासन ने अपनी ओर से पानी "माफिया" को नियंत्रित करने और निजी बोरवेल से पानी लेकर उपलब्ध कराने के प्रयास किए हैं। और पानी के टैंकरों द्वारा तय की गई दूरी के आधार पर भी दरें तय की गई हैं।

Advertisment